www.onlineindianow.in

Latest

Monday, September 24, 2018

हिंदी चुटकुले अच्छे अच्छे - हिन्दी चुटकुले मजेदार -चुटकुले हिन्दी में इमेज - हिंदी चुटकुले -3


(1) न्यायधीश - तुम्हें बार - बार अदालत आते शर्म नहीं आती ?
     जेबकतरा - मुझे तो हर बार आपको यहाँ देखकर शर्म आती है। 

(2 ) पत्नी ( पढ़ाकू पति से ) - काश ! मैं एक किताब होती ताकि हर समय तुम्हारी आँखों के सामने रहती।
      पति ( लड़ाकू पत्नी से ) - काश ! तुम एक कैलेण्डर होती ताकि मैं हर साल बदल दिया करता।

(3 ) पिताजी - बबलू ! आज का अख़बार तो जरा लाओ।
      बबलू - मैं तो कल से ढूंढ - ढूंढ कर परेशान हो गया ,मिल ही नहीं रहा।

(4) एक प्रेमी - प्रेमिका को देखकर अपने साथियों से कहने लगा -'वाह ,देखो तो जरा चाँद तो रात में निकलता है ,आज दिन में कैसे उदय हो गया। '
     प्रेमिका क्रोध से भरे स्वर में -'उल्लू तो रात  में बोलते है,आज दिन में कैसे बोलने लगा ?'

(5) एक प्रेमिका खिड़की के पास खड़ी होकर गाना गा रही थी -'ता थैया करते आना जादूगर मोरे सैंया दिल की लगी बुझाना। '
प्रेमी बोला - 'जब आग लगी है तो फायर ब्रिगेड वालों को क्यों नहीं बुला लेतीं। '

(6) सिनेमा हॉल के बहार खड़ी प्रेमिका प्रेमी की प्रतीक्षा क्र रही थी। एक मनचले युवक को शरारत सूझी।  वह लपककर प्रेमिका के पास पहुंचा।
     मनचले ने कहा - 'लगता है आप अकेली हैं। '
     'जी नहीं ,आपके जीजाजी साथ हैं। 'तपाक से उस प्रेमिका ने उत्तर दिया।

(7 ) एक अंग्रेज युवती ने अपने प्रेमी से कहा - 'अभी दो माह तक मैं तुमसे शादी नहीं कर सकती ,मैंने आज सुबह ही शादी कर ली है। '

(8 ) डॉक्टर प्रेमी - ' तुम्हें मेरी दवा से कोई नुकसान तो नहीं हुआ ?'
      मरीज प्रेमिका - ' हुआ ,आपने तीन दिन की दवा तीन रूपये की दी थी और मैं एक ही दिन में अच्छी हो गयी और दो रूपये की दवा बेकार गई। '

(9 ) प्रेमिका - प्रेमी से -' सुना है बादशाह सुलेमान की एक हजार बीवियाँ थीं। हैरानी है वह इतनी औरतों को खिलाता क्या था ?'
     प्रेमिका -प्रेमी से - ' यह हैरानी की बात नहीं है।  हैरानी की बात तो यह है की वह खुद क्या खाता था ?'

(10 ) एक विवाहित धनी व्यापारी जो लड़कियों से प्रेम करने में बड़े माहिर थे ,अपने नए नौकर को समझाते हुए बोले -'देखो मैं आज किसी भी लड़की से मिलना नहीं चाहता ,यदि कोई लड़की आकर मेरे बारे में पूछे और कहे की मुझे जरूरी काम है तो तुम कह देना की ऐसा सभी कहते हैं। '
      थोड़ी देर बाद एक सुन्दर लड़की उन महाशय से मिलने आई नौकर ने उसे व्यापारी महाशय से रोका वह झल्लाकर बोली -'तुम्हे मालूम नहीं मै उनकी पत्नी हूँ। '
    ' पत्नी ऐसी तो सभी लड़कियां कहती है। ' नौकर का  उत्तर था।

(11 ) प्रेमी ( प्रेमिका से ) - ' अब तुम्हे कैसे बताऊ।  दुनिया में ऐसा कुछ नहीं जो तुम्हे पाने के लिए नहीं कर सकता ,तुम्हारे लिए पर्वत लांघ सकता हूँ समुन्द्र तैर सकता हूँ।
      प्रेमिका -'मैं भी तुम्हें बहुत चाहती हूँ प्रिय !अब कब मिलोगे। '
      प्रेमी -'अगर बरसात नहीं हुई तो शनिवार को इसी समय और यहीं।

(12 ) 'क्यों ,सुस्त क्यों हो ?'
         ' यार ,मेरा सर काफी दुःख रहा है। '
        'मेरा सिर जब दुखता है तो मेरी प्रेमिका मेरा सिर चूम लेती है।
 बस इतनी दिल को ठण्डक मिलती है की दर्द ठीक हो जाता है।
        'तो भाई ये बताओ की तुम्हारी प्रेमिका कब आयेगी या कहा मिलेगी।
         मेरा भी सर दुःख .........

(13 ) अध्यापक - रामू , आज तुमने कौन सा अच्छा काम किया है।
         रामू - सर ,आज मैंने व चार अन्य लड़को ने मिलकर एक बुढ़िया को सड़क पर करवाई।
        अध्यापक - शाबास ! पर पांच लड़को की जरुरत क्यों पड़ी ?
        रामू - क्योंकि वह बुढ़िया सड़क के पर जाना ही नहीं चाहती

(14 ) एक बदसूरत औरत एक जासूसी उपन्यास पढ़ते - पढ़ते अपनी पति से पूछने लगी ,'अगर कोई आदमी जबरदस्ती मुझे भगा कर ले जाए तो तुम क्या करोगे ?'
       'मैं उससे कहूंगा ,खुदा के बन्दे भागने की क्या करुरत है ?
        आराम से जाओ। 'पति ने कहा।

(15 ) एक पार्टी में एक महाशय ने अपने पास खड़े हुए आदमी से कहा ,क्या जमाना आ गया है ? जरा इस सामने बैठे लड़के को तो देखो ,कैसी पोशाक पहन रखी है ,बिल्कुल लड़की मालूम होती है।
         उस आदमी ने नाराज होकर कहा ,'महाशय ,वह मेरी लड़की है। '
        ' माफ कीजिये मालूम नहीं था कि आप उसके बाप हैं। '
       'क्या कहा आपने ?मैं उसका बाप नहीं ,उसकी माँ हूँ। '

No comments:

Post a Comment